उत्तरप्रदेश रेलवे ने बदले प्रतापगढ़ सहित 3 स्टेशनों के नाम

प्रतापगढ़ स्‍टेशन का नया नाम अब मां बेल्हा देवी धाम प्रतापगढ़ जंक्शन हो गया है। इसी के साथ दो अन्‍य स्‍टेशनों के नाम भी बदले गए हैं। रेलवे लंबे समय से तीनों स्टेशनों का नाम बदलने की तैयारी कर रहा था। ज्यादा अक्षर उसमें बाधा बन रहे थे। अब सेंटर फार रेलवे इंफारमेशन सिस्टम (क्रिस) ने इन सभी स्‍टेशनों के कोड बदल द‍िए हैं।

रेलवे ने प्रतापगढ़ संसदीय क्षेत्र के तीन स्टेशनों के नाम बदल बदल दिए हैं । अधिक अक्षर होने के कारण इनके नाम बदलने में परेशानी आ रही थी। सेंटर फार रेलवे इंफारमेशन सिस्टम (क्रिस) ने गुरुवार को उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के अधिकारियों से संपर्क किया था। मंडल की ओर से ग्रह मंत्रालय को पत्र लिखा गया, इस बीच शुक्रवार को क्रिस ने स्टेशन कोड तय कर दिया है।

मां बेल्हा देवी धाम प्रतापगढ़ जंक्शन है नया नाम
अब प्रतापगढ़ नाम बदलकर मां बेल्हा देवी धाम प्रतापगढ़ जंक्शन हो गया है। इसका स्टेशन कोड एमबीडीपी होगा। अंतू का नाम बदलकर मां चंद्रिका देवी धाम अंतू हो गया, इस स्टेशन का कोड एमसीडीए हो गया है। विशनाथगंज का नाम शनिदेव धाम विशनाथगंज हो गया है। इस स्टेशन का कोड एसबीटीजे करने का आदेश जारी हो गया है।

अप्रैल में जारी हुआ था आदेश
भारत सरकार के विज्ञान एवं तकनीकी मंत्रालय के अनु सचिव उन्नी कृष्णन टी ने 10 अप्रैल को प्रतापगढ़ लोकसभा के स्टेशन अंतू, प्रतापगढ़ जंक्शन और बिशनाथगंज का नाम बदलने के आदेश जारी किए थे। उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल की सीनियर डीसीएम रेखा शर्मा ने बताया कि तीनों स्टेशनों के नाम बदलने के आदेश रेलवे बोर्ड ने जारी कर दिए हैं।

योगी सरकार में बदले गए इन बड़े शहरों के नाम
इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज किया गया।

फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या किया गया।

इन रेलवे स्टेशनों के बदले गए नाम
मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन किया गया।

झांसी रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर वीरांगना लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन रखा गया।

सबसे पहले मुगलसराय जंक्शन का बदला था नाम
सबसे पहले मुगलसराय जंक्शन का नाम बदल कर पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन कर दिया गया था। इसके बाद मुगलसराय तहसील का नाम भी पंडित दीन दयाल उपाध्याय कर दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit exceeded. Please complete the captcha once again.