जानिए मानसिक स्वास्थ्य के लिए योगा के फायदे!

भागदौड़ और व्यस्त जीवनशैली के कारण तनाव और अवसाद की समस्या हो सकती है। कामकाज और व्यस्तता के चलते दिमाग उलझा रहता है और मन शांति खो देते है। ऐसे में खुद के लिए समय निकालें ताकि मस्तिष्क को शांत रखें। तनाव के कारण शरीर से जुड़ी कई समस्याएं भी हो सकती हैं। ऐसे में नियमित योग के अभ्यास की आदत को जीवनशैली में शामिल कर सकते हैं। योग विशेषज्ञ के मुताबिक, योग शारीरिक स्वास्थ्य और मानसिक सेहत के लिए फायदेमंद है। योग के अभ्यास से अवसाद व तनाव को कम किया जा सकता है, साथ ही शारीरिक समस्याओं को कम किया जा सकता है। कई तरह के आसन और मुद्राएं हैं जो अलग अलग स्वास्थ्य समस्याओं से राहत दिलाने के लिए असरदार हैं। मानसिक तौर पर स्वस्थ रहने और पूरे शरीर की समस्याओं को दूर रखने के लिए एक नए योग का अभ्यास सीख सकते हैं। इस योग को यूफोनिक योग कहते हैं। आइए जानते हैं यूफोनिक योग के फायदे और इसके अभ्यास का सही तरीका।

यूफोनिक योग क्या है

शरीर में सात चक्र होते हैं। सातों चक्र सात स्वरों से जुड़े होते हैं, जैसे- सा, रे, गा, मा, पा, धा, नि। सात चक्रों से जुड़े सातों स्वर एक साथ मिलकर यूफोनिक योग बनाते हैं। यह योग शास्त्रीय संगीत, शास्त्रीय नृत्य और योग का संगम है। नृत्य और संगीत महज मनोरंजन का जरिया नहीं, बल्कि अनेक बीमारियों के इलाज में भी कारगर साबित हो सकता है।

यूफोनिक योग के अभ्यास के फायदे
नृत्य और संगीत शरीर में एंडोर्फिन हार्मोन को उत्पन्न करके हमें खुशी महसूस कराते हैं। इससे तनाव कम होता है।
यूफोनिक योग विशेष तौर पर तनाव को कम करने के लिए ही तैयार किया गया है। इस योग का प्रभाव लगभग चार गुना बढ़ जाता है।
यूफोनिक योग के दौरान नृत्य किया जाता है, जो मांसपेशियों में लचीलापन लाने में सहायक है, साथ ही ताकत भी बढ़ाता है।
इस योग से शरीर को अधिक ऊर्जा मिलती है और कई शारीरिक समस्याएं दूर होती हैं।
यूफोनिक योग मोटापे को कम करने में भी असरदार है।
उच्च रक्तचाप, तनाव और याददाश्त बढ़ाने के साथ ही हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है।

अस्वीकरण: अमर उजाला की हेल्थ एवं फिटनेस कैटेगरी में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टर, विशेषज्ञों व अकादमिक संस्थानों से बातचीत के आधार पर तैयार किए जाते हैं। लेख में उल्लेखित तथ्यों व सूचनाओं को अमर उजाला के पेशेवर पत्रकारों द्वारा जांचा व परखा गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी तरह के निर्देशों का पालन किया गया है। संबंधित लेख पाठक की जानकारी व जागरूकता बढ़ाने के लिए तैयार किया गया है। अमर उजाला लेख में प्रदत्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit exceeded. Please complete the captcha once again.