आरबीआई का बड़ा फैसला, नहीं बढ़ेंगी होम लोन की ईएमआई

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास शुक्रवार सुबह मौद्रिक नीतियों के अगले सेट की घोषणा की। रिजर्व बैंक की बैठक में भी रेपो रेट में कोई बदलें नहीं किया है। 2024 में तीसरी बार लगातार भी रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में कोई परिवर्तन नहीं किया। महंगाई दर को काबू में रखने के लिए रिजर्व बैंक के प्रयास जारी हैं । अभी रेपो रेट 6.50 ही रहेगा।

हालांकि रिजर्व बैंक स्वतंत्र रूप से काम करता है फिर भी क्योंकि नई सरकार ने अभी शपथ नहीं ली है रिजर्व बैंक ने कोई बड़े बदलाव का फैसला नहीं किया है। रेपो रेट में कमी होने का इंतजार कर रहे बैंकों के ग्राहकों को निराशा हाथ लगी है। उम्मीद है कि यदि मेंहंगाई ऐसे ही काबू में रही, सरकार के बजट और मानसून अच्छा रहा तो रिजर्व बैंक की अगली होने वाली बैठक में रेपो रेट में कमी आ सकती है।

मुद्रास्फीति अनुमान
एसबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, सीपीआई आधारित खुदरा मुद्रास्फीति मई में 5% के आसपास रहने और जुलाई तक घटकर 3% होने की उम्मीद है। रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि अक्टूबर से 2024-25 के अंत तक मुद्रास्फीति 5% से नीचे रहेगी। अप्रैल में खुदरा महंगाई दर 4.83 फीसदी दर्ज की गई.

आवास बाजार पर प्रभाव
एयू रियल एस्टेट के निदेशक आशीष अग्रवाल ने कहा कि रेपो दर को अपरिवर्तित रखने से संभावित घर खरीदारों के लिए सामर्थ्य बनाए रखने में मदद मिलेगी, जिससे आवास बाजार को समर्थन मिलेगा। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि यह नीति रियल एस्टेट क्षेत्र में मांग बढ़ाने और समग्र आर्थिक विकास में योगदान देने के लिए महत्वपूर्ण है।

आरबीआई का आदेश
सरकार ने आरबीआई को खुदरा मुद्रास्फीति को 4% पर बनाए रखने का काम सौंपा है, जिसमें दोनों तरफ 2% का मार्जिन रहेगा। एमपीसी, जो दरें तय करने के लिए जिम्मेदार है, में तीन बाहरी सदस्य- शशांक भिड़े, आशिमा गोयल और जयंत आर वर्मा- और तीन आरबीआई अधिकारी शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit exceeded. Please complete the captcha once again.