बारिश से बिगड़े हालात: खतरे के निशान से ऊपर पहुंची शारदा, माधोटांडा-पीलीभीत मार्ग कटा

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में दो दिन से लगातार हो रही बारिश अब आफत बन गई है। भारी बारिश के बीच शारदा नदी में तीन लाख क्यूसेक से अधिक पानी पास किया गया, जो खतरे के निशान से अधिक है। जिससे रविवार रात से ही कलीनगर के 10 से अधिक गांव बाढ़ से चपेट में आ गए हैं। घरों में पानी घुस गया है। लोग गांव छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर जाने को मजबूर हो गए हैं।

विद्युत व्यवस्था ठप होने से मोबाइल आदि भी बंद हो गए हैं। कलीनगर क्षेत्र में जाने वाले बाइफरकेशन मार्ग पर कई जगह पेड़ गिर गए हैं। जिससे प्रशासनिक और पुलिस के अफसरों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में फिलहाल नहीं पहुंच पा रहे हैं।

नगरिया खुर्द कलां के प्रधान विवेकानंद ने बताया कि शारदा नदी का पानी गांव में घुसा है। अन्य गांवों भी प्रभावित हैं। उन्होंने बताया कि हालात बहुत खराब हैं, बारिश लगातार हो रही है। कई वर्षों बाद शारदा में तीन लाख से अधिक पानी पास किया गया है।

ये गांव बाढ़ की चपेट में
शारदा नदी की बाढ़ का पानी कलीनगर क्षेत्र के नगरिया खुर्द कलां, नलडेंगा, महाराजपुर, गभिया सहराई, रमनगरा, कंजिया सिंहपुर, बंझरबोज, बूंदीभूड़ आदि गांव में घुस गया है। जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। खाने पानी की परेशानी होने लगी है। पूरनपुर क्षेत्र के कई गांवों भी बाढ़ की चपेट में हैं।

20 गांवों का जिला मुख्यालय से टूटा संपर्क
आफत बनी बरसात से माधोटांडा पीलीभीत मार्ग पर दयालपुर गांव के निकट पानी मार्ग कट गया। पुलिया बहने से मार्ग कटा है। इससे क्षेत्र के 20 गांवों का जिला मुख्यालय से संपर्क टूट गया है। इसके अलावा शाहगढ़ क्षेत्र में रेलवे ट्रैक का भाग भी पानी से कट गया है।

रेलवे लाइन की पुलिया बही
हाल ही में बड़ी लाइन में बदले पीलीभीत मैलानी जंक्शन रेलवे रूट पर शाहगढ स्टेशन व संडई हाल्ट के बीच सकरिया नाले के तेज बहाव से पुलिया रविवार की रात पानी के तेज बहाव से बह गई। यह पुलिया रेलवे पोल संख्या 241/2 व 241/3 के बीच बताई गई है। पुलिया बहने से घटिया निर्माण की भी पोल खुल गई है। इसके चलते इस रूट की सभी ट्रेनों का संचालन रेलवे प्रशासन ने फिलहाल बंद कर दिया है।