शिखर धवन का जन्मदिन आज, जीरो से शुरू हुआ सफर, जानिए इनकी कहानी

कहते हैं न कि आपके करियर की शुरुआत भले ही खराब रही हो, लेकिन अगर इंसान में कुछ कर पाने का जुनून है, तो एक दिन सफलता खुद-ब-खुद उसके कदम चूमती है। ऐसे बहुत सारे किस्से क्रिकेटर्स की लाइफ में देखने को मिलते रहते हैं।

अपने देश की तरफ से क्रिकेट खेलने का सपना तो हर किसी का होता है, लेकिन कुछ ही ऐसे खिलाड़ी होते है, जिन्हें ये सुनहेरा मौका मिलता है। कुछ खिलाड़ी अपने डेब्यू मैच में से ही जलवा बिखेरते हुए नजर आते हैं, तो कुछ प्लेयर्स का सफर की शुरुआत खराब रहती है, लेकिन फिर भी वह हिम्मत नहीं हारते और कामयाब क्रिकेटर बनकर दिखाते हैं।

इस लिस्ट में भारत के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन का नाम भी शामिल हैं, जो आज अपना 38वां जन्मदिन मना रहे हैं। उनके खास दिन पर फैंस उन्हें बधाई दे रहे हैं। बता दें कि धवन के क्रिकेट करियर की शुरुआत खराब रही थी, लेकिन धवन ने कोशिश करना नहीं छोड़ा और आज उन्हें सब गब्बर के नाम से जानते हैं। कैसे धवन का नाम गब्बर पड़ा, आइए जानते हैं भारत के धाकड़ बल्लेबाज की पूरी स्टोरी।

भारत के बेस्ट ओपनर शिखर धवन का आज हैं जन्मदिन
दरअसल, शिखर धवन (Shikhar Dhawan) की गिनती बेस्ट ओपनर्स में की जाती है, जिन्होंने भारत की तरफ से पारी का आगाज करते हुए कई अहम मैचों में अकेले दम पर टीम को जीत दिलाने का काम किया है। महज 12 साल की उम्र से ही क्रिकेट खेलने वाले धवन ने अपने जीवन में कई उतार-चढ़ाव का सामना किया है। पहली बार 1999-2001 में विजय मर्चेंट ट्रॉफी में दिल्ली अंडर 16 के लिए खेलते हुए धवन ने हर किसी को अपने प्रदर्शन से प्रभावित किया था।

इसके बाद उन्होंने कई अलग-अलग क्रिकेट लीग में हिस्सा लिया और भारत के लिए अंडर 19 विश्व कप में उन्हें खेलने का मौका मिला। इसके बाद धवन को साल 2010 में इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू करने का मौका मिला।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने पहले वनडे मैच में धवन शून्य पर आउट हुए थे, लेकिन फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी और लगातार कोशिश करते रहे। इसके बाद साल 2012 में धवन को टी20 में डेब्यू करने का मौका मिला। टी20 के पहले मैच में भी धवन का बल्ला खामोश रहा। वह सिर्फ 5 रन बनाकर आउट हुए।

Team India से Shikhar Dhawan कई बार हुए ड्रॉप
इसके बाद उन्हें टीम से अंदर-बाहर किया जाने लगा। साल 2013 में धवन ने शानदार प्रदर्शन कर खूब सुर्खियां बटोरी। इस साल उन्होंने 26 वनडे मैचों में 1162 रन बनाए और चैंपियंस ट्रॉफी में 5 मैच में 363 बटोरे। इसी साल भारत तीसरी बार आईसीसी इवेंट का चैंपियन बना था।

इसके बाद 2019 तक धवन को लगातार मौके मिलते रहे और उन्होंने अपना बेस्ट देने की कोशिश की। लेकिन देखते ही देखते वो अब टीम इंडिया से बाहर होने की कगार पर पहुंच गए है। हाल ही में खेले गए वनडे विश्व कप 2023 में उन्हें नजरअंदाज किया गया। उनकी बढ़ती उम्र की वजह से अब युवाओं को ज्यादा मौके दिए जा रहे हैं।

कैसे धवन को मिला ‘गब्बर’ का टैग?
बता दें कि शिखर धवन को गब्बर नाम का निकनेम दिया गया है। धवन ने एक शो के दौरान खुद बताया था कि रणजी ट्रॉफी के दौरान कोच विजय ने ये नाम उन्हें दिया, क्योंकि वो फिल्म ‘शोले’ के विलन गब्बर की नकल करते थे। धवन ने बताया था कि रणजी ट्रॉफी में सिली प्वाइंट पर मैं बैठा हुआ था।

दूसरे टीम की बड़ी पार्टनरशिप लग जाती है, तो हमारे प्लेयर्स की मोटिवेशन बढ़ाने के लिए मैं चिल्लाता था- बहुत याराना लगता है सुअर के बच्चों। तब मेरी बातें सुनकर सभई हसंते थे। उसी समय हमारे कोच विजय ने मेरा नाम गब्बकर रखा। आज ये नाम फेमस हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.