भारत 10 ट्रिलियन डालर की अर्थव्यवस्था बनने की राह पर

विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) के प्रेसिडेंट बोर्गे ब्रेंडे ने गुरुवार को कहा कि भारत आने वाले वर्षों में 10 ट्रिलियन डालर की अर्थव्यवस्था के साथ ही दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर है। उन्होंने कहा, ‘जब भी मैं भारत आता हूं तो उम्मीद से भरा महसूस करता हूं। हम एक भू-राजनीतिक मंदी, एक बहुत ही खंडित दुनिया का सामना कर रहे हैं, लेकिन अब भी ऐसे क्षेत्र हैं जहां हम सहयोग कर सकते हैं और उन क्षेत्रों का पता लगाना महत्वपूर्ण है।’

महत्वपूर्ण सुधारों से गुजरा है भारत
ब्रेंडे ने कहा कि यह रेखांकित करना आवश्यक है कि आर्थिक वृद्धि इतनी बुरी नहीं है, खासकर भारत के मामले में, जहां हम सात प्रतिशत की आर्थिक वृद्धि देख रहे हैं। साथ ही दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अमेरिका बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रही है।’ उन्होंने कहा, ‘भारत महत्वपूर्ण सुधारों से गुजरा है। यह दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं अमेरिका और चीन की तुलना में अच्छी स्थिति में है। इसके अलावा भारत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में अच्छी वृद्धि देख रहा है। अब भारत में बहुत सारी विनिर्माण गतिविधियां हो रही हैं जो अन्य उभरती अर्थव्यवस्थाओं में होती थीं।’

‘पीएम मोदी का दावोस में हमेशा स्‍वागत’
उन्होंने कहा, ‘हम आने वाले वर्षों में वैश्विक राजनयिक परिदृश्य पर भारत की बड़ी छाप देखेंगे।’ ब्रेंडे ने कहा कि डब्ल्यूईएफ समय आने पर भारत सरकार के सहयोग से डब्ल्यूईएफ इंडिया शिखर सम्मेलन के साथ भारत में आने की उम्मीद करता है। ब्रेंडे ने कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का ‘दावोस में हमेशा बहुत-बहुत स्वागत है।

मजबूत सुधार उपायों ने ठोस आर्थिक विकास की नींव रखी
जेफरीज इक्विटी रिसर्च ने कहा है कि पिछले दस वर्षों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार द्वारा शुरू किए गए मजबूत सुधार उपायों ने आने वाले दशकों में ठोस आर्थिक विकास की नींव रखी है। कंपनी ने कहा है कि भारत 2027 तक तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा और 2030 तक इसके 10 ट्रिलियन डालर की आर्थिकी बनने की उम्मीद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.