संयुक्त राष्ट्र के विशेष राजदूत काबुल में तालिबान अधिकारियों से मिले

संयुक्त राष्ट्र के विशेष राजदूत डेबोरा लियोन ने काबुल में तालिबान के अधिकारियों से मुलाकात कर युद्धग्रस्त राष्ट्र में लोगों के लिए मानवीय सहायता के महत्व पर चर्चा की। इसकी घोषणा अफगानिस्तान में विश्व निकाय के मिशन ने की। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन (यूएनएएमए) ने गुरुवार को एक बयान में कहा कि लियोन ने तालिबान सरकार के कार्यवाहक खुफिया प्रमुख मुल्ला अब्दुल हक वसीक से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने संयुक्त राष्ट्र कर्मियों की सुरक्षा और इस्लामिक स्टेट (आईएस) आतंकी समूह से उत्पन्न खतरे के बारे में भी चर्चा की।

ल्योंस, यूएनएएमए के प्रमुख हैं, जो हाल ही में अफगानिस्तान में कई बैठकों में भाग लेने के बाद काबुल लौटे हैं। यूएनएएमए के अनुसार, बुधवार को ल्योंस ने तालिबान के आंतरिक मंत्री मुल्ला सिराजुद्दीन हक्कानी के साथ एक बैठक की, जिसमें अफगानिस्तान में सभी संयुक्त राष्ट्र और मानवीय कर्मियों को बिना किसी डर या बाधा के काम करने में सक्षम होने पर जोर दिया गया।

मिशन ने पुष्टि की, बैठक ने अफगानिस्तान में चुनौतीपूर्ण स्थिति को सुधारने के लिए सामूहिक प्रयासों में आपसी विश्वास की आवश्यकता को भी संबोधित किया, साथ ही कम से कम अर्थव्यवस्था को फिर से शुरू करने में और यह सुनिश्चित करने में कि सिविल सेवकों और स्वास्थ्य कर्मचारियों को भुगतान किया जाता है, साथ ही दवाओं और भोजन को सबसे ज्यादा जरूरत वाले लोगों तक पहुंचाया जाता है।

इस महीने की शुरूआत में, मानवीय मामलों के अवर महासचिव मार्टिन ग्रिफिथ्स ने काबुल का दौरा किया और तालिबान नेतृत्व के साथ बातचीत की।

इस बीच सोमवार को जिनेवा में एक बैठक में, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि अफगानिस्तान में पूर्ण आर्थिक पतन की संभावना गंभीर थी और उन्होंने फंड सहायता की तत्काल आवश्यकता पर जोर दिया है।

मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र ने अफगानिस्तान के लिए 1.2 अरब डॉलर की राहत देने का वादा करने वाले देशों से जल्द कार्रवाई करने की अपील की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit exceeded. Please complete the captcha once again.