यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए डाइट में शामिल करें ये फूड्स

यूरिक एसिड ब्लड में पाया जाने वाला एक टॉक्सिक पदार्थ है जो प्यूरीन नामक कैमिकल से बनता है। आमतौर पर यह ब्लड में मिलकर किडनी से गुजरते हुए, यूरीन के माध्यम से बाहर निकल जाता है, लेकिन जब यह बाहर नहीं निकल पाता और जोड़ों में कहीं जम जाता है, तो बहुत दर्द महसूस होता है।

जोड़ों में दर्द या सूजन,जोड़ों के आस पास की त्वचा की रंगत खराब होना या छूने पर जोड़ों में गरमाहट महसूस होना यूरिक एसिड के बढ़ने के ही लक्षण हैं। अगर आपको भी पैरों में दर्द या जोड़ों में दर्द की समस्या हो रही है, तो कुछ ऐसे फूड्स हैं जिन्हें आप अपनी डाइट प्लान में शामिल करके यूरिक एसिड की समस्या से निजात पा सकते हैं।आइए जानते हैं, किन फूड्स की मदद से यूरिक एसिड को कम किया जा सकता है।

यूरिक एसिड को कम करने वाले फूड्स-
सेब (Apple)
यदि आप भी यूरिक एसिड की समस्या से परेशान हैं, तो रोज सुबह हाई डाइट्री फाइबर से भरपूर सेब को खाली पेट खाएं ।यह यूरिक एसिड के स्तर को बहुत ही तेजी के साथ कम करता है।

केला (Banana)
केले में प्यूरिन की मात्रा बहुत ही कम होती है, जिसकी वजह से यह यूरिक एसिड की समस्या से बचाता है। यूरिक एसिड की वजह से गठिया जैसी बीमारी हो जाती है। ऐसे में केला यूरिक एसिड को कम करने में सबसे अधिक फायदेमंद साबित होता है।

एंथोसायनिन से भरपूर फल
चेरी, ब्लू बेरी, स्ट्राबेरी, रास्पबेरी जैसे हाई फाइबर वाले फलों में एंथोसायनिन नामक एक प्राकृतिक सूजन रोधी कंपाउंड मौजूद होता है, जो यूरिक एसिड के स्तर को कम करने का काम करता है। जोड़ों में दर्द, आमतौर पर यूरिक एसिड के टूटने के कारण ही होता है और ये फल ऐसा होने से रोकते हैं और यूरिक एसिड की समस्या से छुटकारा दिलाते हैं। साथ ही, जोड़ों के दर्द में भी आराम मिलता है।

कॉफी ( Coffee)
एक शोध में पाया गया है कि कॉफी के सेवन से भी यूरिक एसिड की समस्या से छुटकारा मिलता है। यह रक्त में प्यूरिन को तोड़ने का काम करता है, जिससे यूरिक एसिड को कम करने में मदद मिलती है।

खट्टे फल (Citrus Fruits)
विटामिन-सी से भरपूर खट्टे फलों से यूरिक एसिड को कम करने में मदद मिलती है। इसके लिए नींबू, संतरा, अन्नामास, पपीता, मौसंबी, टमाटर, आंवला आदि खट्टे फलों का सेवन करें। इससे बढ़े हुए यूरिक एसिड को कम करने में मदद मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.