2024 का विश्व हिंदी दिवस किस थीम के साथ सेलिब्रेट किया जायेगा?

हर साल जनवरी की 10 तारीख का दिन दुनियाभर में हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का मकसद दुनियाभर में हिंदी का प्रचार-प्रसार करना है। इसके साथ ही भारतीय संस्कृति को भी दूसरे देशों में पहुंचाना है। इसे पहली बार साल 2006 में तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह द्वारा मनाया गया था। जिसके बाद से हर साल इसे धूमधाम के साथ मनाया जाता है। जहां अंतर्राष्ट्रीय हिंदी दिवस 10 जनवरी को मनाया जाता है वहीं राष्ट्रीय हिंदी दिवस 14 सितंबर को सेलिब्रेट किया जाता है। भारत में ही नहीं, फिलीपींस, मॉरिशस, नेपाल, सूरीनाम, फिजी, तिब्बत, त्रिनिदाद और पाकिस्तान में भी हिंदी बोली जाती है। यह दुनियाभर में मौजूद भारत भाषियों को एक सूत्र में पिरोने का दिन है।

विश्व हिंदी दिवस का इतिहास
नागरपुर में 10 जनवरी, 1975 को सबसे पहला विश्व हिंदी दिवस मनाया गया था। जिसमें 30 देशों के 122 प्रतिनिधि शामिल हुए थे, लेकिन विश्व हिंदी दिवस औपचारिक रूप से मनाने की घोषणा साल 2006 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने की थी।

विश्व हिंदी दिवस मनाने का उद्देश्य
हिंदी भाषा को दुनियाभर में पहुंचाने के मकसद से इस दिन को मनाने की शुरुआत की गई थी। इस दिन को भारतीय दूतावासों से धूमधाम के साथ मनाया जाता है। हिंदी भाषा से जुड़े तरह-तरह के कार्यक्रमों और प्रतियोगिताओं का आयोजन होता है। आपको बता दें कि विश्व हिंदी सचिवालय मॉरिशस में स्थित है।

विश्व हिंदी दिवस 2024 का थीम
विश्व हिंदी दिवस को हर साल एक थीम के साथ सेलिब्रेट किया जाता है। थीम के तहत ही इससे जुड़े कार्यों को संपन्न किया जाता है। साल 2024 में हिंदी दिवस की थीम है ‘हिंदी पारंपरिक ज्ञान से कृत्रिम बुद्धिमत्ता तक” है। इसे लेकर कई तरह के कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं जिसमें लोग बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.